अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

मंगलवार, 8 अक्तूबर 2013

पीछे मुड़ना हमारा काम नहीं


पीछे मुड़ना हमारा काम नहीं , चाहे जिन्दगी बदनाम सही 
कहती है देख तूने बोये थे फूल , काँटो को देख कर तू घबराया तो नहीं

                   मैंने कहा ऐ जिन्दगी मै तो आगे आगे चलता  रहूँगा  
                   काँटे ज्यादा जो हुये गर बाद में आप पछताएंगी तो नहीं



अगर ऐसा लगे तो आना हमारे साथ , जहाँ जमेंगे मिलेंगे हम वही 
क्योंकि पीछे मुड़ना हमारा काम नहीं , चाहे जिन्दगी बदनाम सही !!

************************************************************************************

अर्थ -- जिस कार्य हेतु आप आगे बढ़ रहे है , अगर वो अच्छा कार्य है तो आप पीछे न हटें , क्योंकि ये निश्चित है कि अच्छे कार्य में बाधाएं तो आती ही है , तब पथिक को ये समझना चाहिए कि ये परीक्षा का समय है , पीछे मुड़नें से कोई फ़ायदा भी नहीं , क्योंकि जाने अंजाने मे हमसे ऐसी कई भूल हो जाती है , जो कि पीछे देखने से हमें तकलीफ देती है , आप आगे बढ़ते रहिये , फ़िर एक दिन ऐसा ज़रूर आयेगा , कि ज़िन्दगी को पछतावा होगा कि इसकी परीक्षा ली ही क्यों , ज़रूरी है कि आप जमें रहें , बस जमें रहें !!!

2 टिप्‍पणियां:

  1. किसी भी काम के लिए जा रहें तो कांटे देख के घबरान ठीक नहीं ...
    अच्छा लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिगम्बर जी टिप्पणी हेतु धन्यवाद व स्वागत

      हटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...