अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

मंगलवार, 22 अक्तूबर 2013

"टूटे हुए शायर का अरमां" - आशीष अवस्थी

==============================================================================

==============================================================================
एक टूटे हुए शायर का अरमां अभी कुछ बाक़ी है********
 जो पूरे ना हो सके उन सपनों का ख़्वाब अभी कुछ बाक़ी है।


हम लिख न सके ऐसी शायरी है जिन्दगी********
 कोरे पन्नों में कैद अरमां अभी कुछ बाक़ी है।
==============================================================================

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... इनास्मानों को निकल जाने दें ... आराम मिलेगा ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सर आप जैसे लोग पधारे , फिर क्या ये आराम मिलने से कम है , धन्यवाद व स्वागत है

      हटाएं
  2. mujhe achchi lagi aapki ye post / jaese aapne mere mn ki bat ko zuban de di ho :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ० स्वागत है आपका , धन्यवाद
      || जय श्री हरिः ||

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या बात है। बेहतरीन पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. अनुषा जी धन्यवाद व स्वागत हैं !

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आपके आने की बात ही अलग हैं , ब्रदर धन्यवाद व सदा ही स्वागत हैं !

      हटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...