अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

मंगलवार, 1 अप्रैल 2014

बुद्धिवर्धक कहानियाँ - ( ~ त्याग में आनंद ~ ) - { Inspiring stories part - 4 }

==============================================================================

बुद्धिवर्धक कहानियाँ - भाग - ४ पर आप सबका स्वागत है , भाग - ३ कि कहानी तो आपने पढ़ी ही होगी , अगर नहीं ! तो यहाँ पे क्लिक करें ! तो बात करतें है कहानियों को सुंदर मार्ग देते हुए आजकी सुन्दर कहानी की ! जिसका नाम है - ( ~ त्याग में आनंद ~ )

==============================================================================


एक साधु नगरी में रहता था। हर घड़ी प्रभु - भक्ति के गीत गाता था। लोग उसका सम्मान करते। उसे कितनी ही वस्तुएँ देते।
.........................................................................................................................................................

एक दिन साधु ने शिष्य से कहा - " बेटा ! चलो , अब किसी दूसरे नगर में चलें। "
..........................................................................................................................................................

शिष्य बोला - " नहीं गुरु महाराज ! यहाँ चढ़ावा बहुत चढ़ता है। कुछ पैसे जमा हो जाएँ , तब चलेंगे। "
..........................................................................................................................................................

गुरु ने कहा - " पैसे जमा करके क्या करेगा ? चल मेरे साथ ! पैसे जमा नहीं करने हमें। "
..........................................................................................................................................................

चल पड़े दोनों। शिष्य ने कुछ पैसे जमा कर लिये थे , उन्हें अपनी धोती में बाँध रखा था।
..........................................................................................................................................................

चलते-चलते मार्ग में नदी पड़ गई। एक नौका भी थी वहाँ। नाविक पार पहुँचाने के दो आने माँगता था। साधु के पास पैसे नहीं थे। शिष्य देना नहीं चाहता था। दोनों बैठ गए।
..........................................................................................................................................................

नाविक घर जाने लगा तो बोला - " बाबा ! तुम कब तक यहाँ बैठे रहोगे ? यह है जंगल। रात को इस किनारे पर शेर पानी पीने आता है। दूसरे भयानक जानवर भी आते हैं। वे तुम्हें कच्चा चबा जाएँगे। "
..........................................................................................................................................................

शिष्य ने कहा - " तुम हमें पार ले चलो। "
..........................................................................................................................................................

नाविक बोला - " मै तो दो-दो आने लिये बिना नहीं ले-जा सकता। "
..........................................................................................................................................................

शिष्य को जान बड़ी प्यारी थी। धोती से चार आने निकालकर दे दिए - " अच्छा , अब तो ले चलो ! "
..........................................................................................................................................................

नाविक ने किराया लिया और पार पहुँचा दिया।
..........................................................................................................................................................

शिष्य बोला - " देखा गुरुजी ! आप तो कहते थे कि पैसे जमा नहीं करने हमें ? "
..........................................................................................................................................................

गुरु जी ने हँसते हुए कहा - " सोचकर देख बेटा ! पैसा जमा करने से तुम्हें सुख नहीं मिला , पैसा देने से मिला है। सुख तो त्याग में है , जमा करने में नहीं। "

==============================================================================
                                                      कहानी लेखक - महात्मा श्री आनंद स्वामी

==============================================================================

मित्रों व प्रिय पाठकों - कृपया अपने विचार टिप्पड़ी के रूप में ज़रूर अवगत कराएं - जिससे हमें लेखन व प्रकाशन का हौसला मिलता रहे ! धन्यवाद !


==============================================================================  

19 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सर धन्यवाद व स्वागत हैं !
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. धन्यवाद अभिषेक भाई व स्वागत हैं !
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. देवेंद्र भाई बहुत बहुत धन्यवाद जो आपका आगमन हुआ व स्वागत हैं !
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. आ० शिखा जी , आगमन हेतु धन्यवाद व स्वागत हैं ।
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. राजीव भाई धन्यवाद व स्वागत हैं !
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  6. आपको ये बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि आपका ब्लॉग ब्लॉग - चिठ्ठा - "सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉग्स और चिट्ठे" ( एलेक्सा रैंक के अनुसार / 31 मार्च, 2014 तक ) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएँ,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. आदरणीय धन्यवाद व अपनों का सदः ही स्वागत है , धन्यवाद !
      || जय श्री हरिः ||

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. धन्यवाद व स्वागत हैं ।
      ॥ जय श्री हरि: ॥

      हटाएं
  9. बढ़िया व बेहतर प्रस्तुति , आशीष सर धन्यवाद !
    ऐसे ही लिखते रहें.
    शुभ हो आपके लिए.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सर बहुत धन्यवाद जो आपका आगमन हुआ व हार्दिक स्वागत है !

      हटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...