अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

शुक्रवार, 17 अक्तूबर 2014

अच्छे स्वास्थ्य हेतु कुछ सरल उपाय ! { Some simple tips for good health ! }

==============================================================================

स्वस्थ रहने हेतु व अच्छे स्वास्थ्य हेतु , आजकल लोग तमाम उपाय करते हैं , अच्छी सोच व अटूट संकल्प द्वारा इसमें सफलता भी पायी जा सकती है , लेकिन इसमें प्रमुख है नियम व द्रढ़ संकल्प , जिनका नियम से पालन करने से ही स्वस्थ व निरोग रहा जा सकता है , तो आइये इनमें से कुछ महत्वपूर्ण उपायों पर नज़र हम डालते हैं , शायद कुछ काम के निकल आयें !
==============================================================================
१ . सुबह जल्दी उठो और ३ - ४ मील ( ४-६ किलोमीटर ) रोज टहलो। अगर संभव हो सके तो शाम को भी थोडा। 
------------------------------------------------------------------------------
२ . टहलते समय नाक से लम्बी-लम्बी सांसे लो तथा यह भावना करो कि टहलने से आप अपने स्वास्थ्य को संवार रहे हैं।
------------------------------------------------------------------------------

३ . टहलने के अलावा , दौड़ना , साइकिल चलाना , घुड़सवारी , तैरना या कोई भी खेलकूद , व्यायाम के अच्छे उपाय हैं। स्त्रियों का चक्की पीसना , बिलौना बिलोना , रस्सीकूदना , पानी भरना , झाडू-पौंछा लगाना आदि घर के कामों में भी अच्छा व्यायाम कर सकती हैं। रोज थोड़े समय छोटे बच्चों के साथ खेलना , १०-१५ मिनट खुलकर हँसना भी अच्छे व्यायाम के अंग हैं।
------------------------------------------------------------------------------

४ . प्रातः टहलने के बाद भूख अच्छी लगती है। इस समय पौष्टिक पदार्थों का सेवन करें। अंकुरित अन्न , भीगी मूंगफली , आंवला या इससे बना कोई पदार्थ , संतरा या मौसम्मी का रस अच्छे नाश्ता का अंग होते हैं।
------------------------------------------------------------------------------

५ . भोजन सादा करो एवम् उसे प्रसाद रूप में ग्रहण करो , शांत , प्रसन्न और निश्चिन्तता पूर्वक करो और उसे अच्छी तरह चबाचबा कर खाओ। खाते समय न बात करो न हंसो।
------------------------------------------------------------------------------

६ . भूख से कम खाओ अथवा आधा पेट खाओ , चौथाई पानी के लिए एवम् चौथाई पेट हवा के लिए खाली छोड़ दे।
------------------------------------------------------------------------------

७ . भोजन में रोज़ अंकुरित अन्न अवश्य शामिल करो। अंकुरित अन्न में पौष्टिकता एवम् खनिज लवण गुणात्मक मात्रा में बढ़ जाते हैं। इनमें मूंग सर्वोत्तम है। चना , अंकुरित या भीगी मूंगफली इसमें थोड़ी मेथी दाना एवम् चुटकी भर-अजवायन मिला लें तो यह कई रोगों का प्रतिरोधक एवम् प्रभावी इलाज है।
------------------------------------------------------------------------------

८ . मौसम की ताज़ा हरी सब्जी और ताज़े फल खूब खाओ। जितना हो सके कच्चे खाओ अन्यथा आधी उबली तथा कम मिर्च-मसाले , खटाई की सब्जियां खाओ। अक ग्रास रोटी के साथ चार ग्रास सब्जी के अनुपात का प्रयास रखो।
------------------------------------------------------------------------------

९ . भोजन के साथ पानी कम से कम पियो। दोपहर के भोजन के घंटे भर बाद पानी पियें। भोजन यदि कड़ा और रूखा हो तो २-४ घूंट पानी अवश्य पियें।
------------------------------------------------------------------------------

१० . प्रातः उठते ही खूब पानी पीओ। दोपहर भोजन के थोड़ी देर बाद छाछ और रात को सोने के पहले उष्ण दूध अमृत सामान है।

==============================================================================
मित्रों व प्रिय पाठकों ये जानकारी आपको हिंदी में कैसी लगी , कृपया अपनी टिप्पणी जरूर करें , धन्यवाद !
==============================================================================      

20 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय आशीष जी! सुन्दर जानकारी! साभार!
    धरती की गोद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शनिवार- 18/10/2014 को नेत्रदान करना क्यों जरूरी है
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः35
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut rochak jaankari..swasthya hi jiven hai isliye iss jaankari ka mahatv aur badh jaata hai... Umda prastuti .. !!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...