अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

शुक्रवार, 4 जुलाई 2014

ईमेल क्लाइंट्स क्या है ? - { What is the email clients ? }

==============================================================================
==============================================================================
एक जानकारी , बढ़िया *** सोचा आपसे भी बाँट लूं , शायद आप लोगों के कुछ काम ही आ जाए और वैसे भी जानकारी है बहुत काम की , ज्यादातर आप लोग ने ईमेल क्लाइंट्स के बारे में सुना ही होगा , मैं भी सुनता था और सोचता था कि ये ईमेल क्लाइंट्स क्या है , आज जानकारी मिली तो आप सबके साथ शेयर कर रहा हूँ
ईमेल सॉफ्टवेयर , तथा आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) आदि को ही ईमेल क्लाइंट्स ( Email Clients ) कहा जाता है। आप इस पोस्ट में अपनी जानकारी के तहत २ - प्रमुख - ईमेल क्लाइंट्स - नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) और आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का छोटे व सरल रूप में  अध्ययन करेंगे।
==============================================================================

पहले ये जानते हैं कि एक ईमेल सॉफ्टवेयर आपको क्या-क्या सुविधाएँ प्रदान करता है -
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
. नया ईमेल एकाउंट खोलना ( Open a new e-mail account )
. मैसेजों को भेजना और प्राप्त करना ( Send and receive messages )
. मेल को रीड करना ( Read messages )
. मैसेज का रिप्लाई देना ( Reply a message )
. मैसेज को फॉरवर्ड करना ( Forward message )
. ईमेल एड्रेसों को एड्रेस बुक में स्टोर करना ( Store e-mail addresses in an address book )
. आने वाले मेल ( mail ) को किसी ईमेल सर्वर ( e-mail server ) जैसे , IMAP मेल सर्वर पर स्टोर करना ( Store incoming mail on a e-mail server like IMAP mail server )
. मैसेज में किसी टेक्स्ट या बाइनरी फाइल को संलग्न करना ( Attach a text or binary file to a message )
. मेल को किसी फाइल में सेव करना और मैसेज को प्रिंट करना ( Save mail to a file and print the message )
१० . मैसेज को सुरक्षा के ख्याल से डिजिटली साइन करना और एन्क्रिप्ट करना ( Digitally sign and encrypt the message to secure the message )
११ . न्यूज़ग्रुप के मैसेजों को ऑफलाइन रीड करने के लिए डाउनलोड करना ( Download newsgroup messages for offline reading )
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आगे जाने नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) और आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) के बारे में -
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नेटस्केप मैसेन्जर - एक ईमेल क्लाइंट , ( Netscape Messenger : an e-mail client ) - नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) नेटस्केप कम्यूनिकेटर ( Netscape Communicator ) नामक सूट ( Suit ) का एक ईमेल प्रोग्राम / सॉफ्टवेयर है , नेटस्केप मैसेंजर ( Netscape Messenger ) , नेटस्केप मेल ( Netscape Mail ) नामक ईमेल प्रोग्राम का समुन्नत संस्करण है , नेटस्केप मैसेंजर ( Netscape Messenger ) आपको आसानी और तेजी से ईमेल और न्यूज़ को भेजने और रिसीव ( Receive ) करने की सुविधा देता है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आउटलुक एक्सप्रेस - एक ईमेल क्लाइंट , ( Outlook Express : A e-mail client ) - आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , माइक्रोसॉफ्ट का एक ईमेल प्रोग्राम / सॉफ्टवेयर है , जो विंडोज़ 9 X ऑपरेटिंग सिस्टम और इन्टरनेट एक्सप्लोरर 4.0 ( Internet Explorer ) के बाद के संस्करणों में सन्निहित होता है , आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , ऑनलाइन कम्युनिकेशन ( Online Communication ) की दुनियाँ को आपके कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर समेटता है , यदि आप अपने दोस्तों और सहपाठियों से ईमेल का आदान-प्रदान करना चाहते हैं , तो आप आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का प्रयोग कर सकते हैं . यदि आप अपने विचारों और सूचनाओं से संसार को अवगत कराना चाहते हैं , तो आप आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का प्रयोग कर न्यूज़ग्रुप ( Newsgroup ) को ज्वाइन ( Join ) कर सकते हैं। ,

यहाँ पर जानकारी छोटे व सरल रूप से दी गई है , धन्यवाद !
==============================================================================
मित्रों व पाठकों ये जानकारी आपको हिंदी में कैसी लगी , कृपया टिप्पणी ज़रूर करें , धन्यवाद !
==============================================================================   

20 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया जानकारी ......धन्यबाद....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी प्रस्तुति के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (05-07-2014) को "बरसो रे मेघा बरसो" {चर्चामंच - 1665} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. कई बात पाता नहीं होता चाहे इस्तेमाल करें उस फेसिलिटी का ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा जानकारी देने के लिए
    धन्यवाद और स्नेहाशीष

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ. बहुत धन्यवाद व सदः हि स्वागत है !
      || जय श्री हरिः ||

      हटाएं
  6. महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है क्योंकि मुझे ज्यादा ज्ञान नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद व स्वागत हैं , ज्ञान मुझे भी ज्यादा नहीं हैं लेकिन अपमान किसी भी विद्या का नहीं हैं !

      हटाएं
  7. जै हो प्रभु की , धन्यवाद व स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...