अगर पसंद आए तो कृपया इस ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पे लगाएं

शुक्रवार, 4 जुलाई 2014

ईमेल क्लाइंट्स क्या है ? - { What is the email clients ? }

==============================================================================
==============================================================================
एक जानकारी , बढ़िया *** सोचा आपसे भी बाँट लूं , शायद आप लोगों के कुछ काम ही आ जाए और वैसे भी जानकारी है बहुत काम की , ज्यादातर आप लोग ने ईमेल क्लाइंट्स के बारे में सुना ही होगा , मैं भी सुनता था और सोचता था कि ये ईमेल क्लाइंट्स क्या है , आज जानकारी मिली तो आप सबके साथ शेयर कर रहा हूँ
ईमेल सॉफ्टवेयर , तथा आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) आदि को ही ईमेल क्लाइंट्स ( Email Clients ) कहा जाता है। आप इस पोस्ट में अपनी जानकारी के तहत २ - प्रमुख - ईमेल क्लाइंट्स - नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) और आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का छोटे व सरल रूप में  अध्ययन करेंगे।
==============================================================================

पहले ये जानते हैं कि एक ईमेल सॉफ्टवेयर आपको क्या-क्या सुविधाएँ प्रदान करता है -
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
. नया ईमेल एकाउंट खोलना ( Open a new e-mail account )
. मैसेजों को भेजना और प्राप्त करना ( Send and receive messages )
. मेल को रीड करना ( Read messages )
. मैसेज का रिप्लाई देना ( Reply a message )
. मैसेज को फॉरवर्ड करना ( Forward message )
. ईमेल एड्रेसों को एड्रेस बुक में स्टोर करना ( Store e-mail addresses in an address book )
. आने वाले मेल ( mail ) को किसी ईमेल सर्वर ( e-mail server ) जैसे , IMAP मेल सर्वर पर स्टोर करना ( Store incoming mail on a e-mail server like IMAP mail server )
. मैसेज में किसी टेक्स्ट या बाइनरी फाइल को संलग्न करना ( Attach a text or binary file to a message )
. मेल को किसी फाइल में सेव करना और मैसेज को प्रिंट करना ( Save mail to a file and print the message )
१० . मैसेज को सुरक्षा के ख्याल से डिजिटली साइन करना और एन्क्रिप्ट करना ( Digitally sign and encrypt the message to secure the message )
११ . न्यूज़ग्रुप के मैसेजों को ऑफलाइन रीड करने के लिए डाउनलोड करना ( Download newsgroup messages for offline reading )
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आगे जाने नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) और आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) के बारे में -
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नेटस्केप मैसेन्जर - एक ईमेल क्लाइंट , ( Netscape Messenger : an e-mail client ) - नेटस्केप मैसेन्जर ( Netscape Messenger ) नेटस्केप कम्यूनिकेटर ( Netscape Communicator ) नामक सूट ( Suit ) का एक ईमेल प्रोग्राम / सॉफ्टवेयर है , नेटस्केप मैसेंजर ( Netscape Messenger ) , नेटस्केप मेल ( Netscape Mail ) नामक ईमेल प्रोग्राम का समुन्नत संस्करण है , नेटस्केप मैसेंजर ( Netscape Messenger ) आपको आसानी और तेजी से ईमेल और न्यूज़ को भेजने और रिसीव ( Receive ) करने की सुविधा देता है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आउटलुक एक्सप्रेस - एक ईमेल क्लाइंट , ( Outlook Express : A e-mail client ) - आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , माइक्रोसॉफ्ट का एक ईमेल प्रोग्राम / सॉफ्टवेयर है , जो विंडोज़ 9 X ऑपरेटिंग सिस्टम और इन्टरनेट एक्सप्लोरर 4.0 ( Internet Explorer ) के बाद के संस्करणों में सन्निहित होता है , आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) , ऑनलाइन कम्युनिकेशन ( Online Communication ) की दुनियाँ को आपके कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर समेटता है , यदि आप अपने दोस्तों और सहपाठियों से ईमेल का आदान-प्रदान करना चाहते हैं , तो आप आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का प्रयोग कर सकते हैं . यदि आप अपने विचारों और सूचनाओं से संसार को अवगत कराना चाहते हैं , तो आप आउटलुक एक्सप्रेस ( Outlook Express ) का प्रयोग कर न्यूज़ग्रुप ( Newsgroup ) को ज्वाइन ( Join ) कर सकते हैं। ,

यहाँ पर जानकारी छोटे व सरल रूप से दी गई है , धन्यवाद !
==============================================================================
मित्रों व पाठकों ये जानकारी आपको हिंदी में कैसी लगी , कृपया टिप्पणी ज़रूर करें , धन्यवाद !
==============================================================================   

20 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया जानकारी ......धन्यबाद....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी प्रस्तुति के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता जी धन्यवाद व स्वागत है !

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (05-07-2014) को "बरसो रे मेघा बरसो" {चर्चामंच - 1665} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. प्रीति जी धन्यवाद व सद: स्वागत हैं !

      हटाएं
  5. कई बात पाता नहीं होता चाहे इस्तेमाल करें उस फेसिलिटी का ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिगंबर भाई धन्यवाद व स्वागत है !

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. राजीव भाई धन्यवाद व सदः ही स्वागत है !

      हटाएं
  7. उम्दा जानकारी देने के लिए
    धन्यवाद और स्नेहाशीष

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ. बहुत धन्यवाद व सदः हि स्वागत है !
      || जय श्री हरिः ||

      हटाएं
  8. महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है क्योंकि मुझे ज्यादा ज्ञान नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद व स्वागत हैं , ज्ञान मुझे भी ज्यादा नहीं हैं लेकिन अपमान किसी भी विद्या का नहीं हैं !

      हटाएं
  9. जै हो प्रभु की , धन्यवाद व स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...